कंगना रनौत ने बताया कोरोना रिकवरी के दौरान कैसे रखें अपना ख्याल। (फोटो क्रेडिट: इंस्टाग्राम: कंगनारनौत)

कंगना (Kangana Ranaut Instagram) पूरी तरह से कोरोना से उबर चुकी हैं, इसलिए उन्होंने अपनी पोस्ट कोविड केयर स्टोरी भी फैन्स के साथ शेयर की है. इस पोस्ट में एक्ट्रेस ने बताया है कि कैसे वो कोरोना से ठीक होने के बाद अपना ख्याल रख रही हैं. कंगना ने इंस्टाग्राम पर अपना एक वीडियो शेयर किया है। जिसमें वह पोस्ट कोविड केयर पर बात करती नजर आ रही हैं।

मुंबई: बॉलीवुड की ‘पंगा क्वीन’ कंगना रनौत सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहती हैं और अलग-अलग मुद्दों पर खुलकर अपनी राय रखती हैं. एक्ट्रेस ने सोशल मीडिया के जरिए फैन्स को अपने कोरोना पॉजिटिव (Kangana Ranaut Post Covid Care) होने की जानकारी दी. वह भी कोरोना संक्रमित पाए जाने के कुछ ही दिनों में ठीक हो गई थी। अब जब कंगना महामारी (Kangana Ranaut Instagram) से पूरी तरह से उबर चुकी हैं तो उन्होंने अपनी पोस्ट कोविड केयर स्टोरी भी फैन्स के साथ शेयर की है. इस पोस्ट में एक्ट्रेस ने बताया है कि कैसे वो कोरोना से ठीक होने के बाद अपना ख्याल रख रही हैं.

कंगना ने इंस्टाग्राम पर अपना एक वीडियो शेयर किया है। जिसमें वह पोस्ट कोविड केयर पर बात करती नजर आ रही हैं। वीडियो में कंगना कहती हैं- ‘मैं अपने कोरोना के सफर के बारे में बताती रही हूं और आज मैं कोरोना ठीक होने को लेकर अपना अनुभव आपके साथ साझा करूंगी। कोरोना जैसा मैंने तुमसे कहा था, आम सर्दी-जुकाम है, ऐसा ही मेरा अनुभव रहा। लेकिन, रिकवरी क्या है, इसमें मेरे साथ कुछ चौंकाने वाली बातें हुईं, जिनका अनुभव मैंने कभी नहीं किया।

‘ अक्सर हमने देखा है कि बचपन में जब भी हम बीमार पड़ते थे। मानो मुझे पीलिया हो गया हो, एक बार मेरा पैर टूट गया। इसलिए हम देखते हैं कि जब भी हम इस प्रकार की दुर्घटना से उबरते हैं, तो यह कम समय में हो सकता है, भले ही अधिक वसूली हो। लेकिन, जब यह ठीक होने लगता है तो लगातार ठीक हो जाता है। लेकिन, एक चौंकाने वाली बात जो मैंने कोरोना वायरस में देखी, वह यह है कि यह फोर्स रिकवरी देता है। मेरी टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव आने के 1-2 दिन के भीतर ही मुझे लगा कि मैं पूरी तरह से ठीक हो गया हूं। अब मैं कोई भी काम कर सकती हूं चाहे वह वर्कआउट हो, एक्टिंग शिफ्ट। मैं जो कुछ भी कर सकता था, मैं अब भी कर सकता हूं। लेकिन, यह एक झूठी वसूली थी।

‘जैसे ही मैं घर से बाहर आया, मुझे पता चला कि मुझे फिर से एक जबरदस्त रिलैप्स होने वाला है। ऐसा महसूस होना कि मैं बिस्तर से उठ नहीं पा रहा हूँ। गले में दर्द होने लगा और बुखार भी आने लगा। इसमें कोई शक नहीं कि यह वायरस जेनेटिकली मॉडिफाइड है। इस पर कार्य किया जाता है। जो मेरा अनुभव रहा है कि चूंकि यह वायरस आपके शरीर के अंदर कुछ नुकसान कर रहा है। कुछ लोगों को स्थायी डिमेंशिया हो रहा है, किसी को दिल का दौरा पड़ रहा है। कुछ लोग बस मर रहे हैं।

कंगना आगे कहती हैं- ‘यह संक्रमण हमारे शरीर की आपसी प्रतिक्रिया को म्यूट कर देता है। इसके द्वारा दी गई झूठी वसूली के कारण लोग मर रहे हैं। इसका कारण कुछ भी हो सकता है। सांस लेने में विफलता, दिल का दौरा या अंग विफलता। यानी इस वायरस से उबरने के लिए जितना जरूरी है उतना ही बाद में भी अपना ख्याल रखना जरूरी है। क्योंकि, इसका असली असर रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद दिखने लगा है। तो यह मेरा अनुभव था। ठीक होने के बाद, कई बार मुझे बिना किसी लक्षण के जबरदस्त रिलैप्स हुआ। इसलिए मैं कहना चाहूंगा कि हर किसी को रिकवरी पीरियड को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। आराम करें और अपना अच्छा ख्याल रखें। भाप लेते रहें।




.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here