देव आनंद हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के एक ऐसे हैंडसम अभिनेता थे, जिनके लिए लड़कियां अपनी जान तक दे देती थीं। देव साहब की एक झलक पाने के लिए लड़कियां इंतजार करती थीं। दीवानगी का आलम यह था कि जिस रास्ते से भगवान गुजरते थे, वहां दर्शकों की लाइन लग जाती थी। उन्हें काले कपड़े पहनकर घर से बाहर निकलने पर रोक लगा दी गई थी। वह काले कोट में इतना आकर्षक लग रहा था कि लड़कियां छत से कूद जाती थीं। बॉलीवुड में भी एक्टर से लेकर एक्ट्रेस तक सिर्फ आम लोग ही उनके बड़े फैन हुआ करते थे। वहीदा रहमान भी उनकी बहुत बड़ी फैन थीं।

अभिनेत्री/लेखिका ट्विंकल खन्ना ने अपने YouTube चैनल के लिए वहीदा रहमान का साक्षात्कार लिया। इस इंटरव्यू के दौरान ट्विंकल खन्ना ने उन्हें वहीदा रहमान के जमाने के बारे में बॉलीवुड से जुड़ी कई बातें बताईं। साथ ही उन्होंने यह भी पूछा कि देव आनंद ने उनके लिए प्यार कैसे जगाया और राज खोसला के सामने उनके लिए स्टैंड भी लिया।

ट्विंकल खन्ना ने उन्हें यह भी बताया कि जब उन्होंने पहली बार गाइड फिल्म देखी तो वह खुद उनके फैन हो गए थे। साथ ही उन्होंने यह भी पूछा कि क्या वह इतनी आकर्षक रियल लाइफ में भी हैं। वहीदा रहमान ने कहा, ‘मैं देव आनंद की बहुत बड़ी फैन थी। मेरी पहली फिल्म उनके साथ थी।

देव आनंद से पहली मुलाकात का जिक्र
वहीदा रहमान ने भी देव आनंद की नकल की और पहली मुलाकात में उन्होंने पूछा, ‘वहीदा कैसी हैं?’ चलो करते हैं, चलो…चलो’। उन्होंने कहा, ‘जब मैं उनसे पहली बार मिला तो उन्होंने कहा, ‘नमस्ते देव साहब’। उन्होंने तुरंत कहा- कौन देव साहब।’ उन्होंने वहीदा रहमान से कहा कि वह उन्हें सिर्फ ‘देव’ कहें।

वहीदा रहमान ने देव आनंद के साथ अपनी पहली फिल्म की थी। (फाइल फोटो)

देव आनंद की डिसेंट फर्टी
वहीं जब ट्विंकल खन्ना ने देव आनंद की ‘डिसेंट फ्लर्ट’ के बारे में पूछा तो वहीदा रहमान ने कहा जिसके बारे में उन्होंने पहले भी एक इंटरव्यू में बताया था. ट्विंकल खन्ना ने पूछा कि देव आनंद ने उनसे कैसे फ्लर्ट किया था, क्या उन्होंने कहा वहीदा तुम बहुत खूबसूरत हो?

‘वहीदा मेरी रोजी-रोटी होगी’
इस पर वहीदा रहमान ने कहा, ‘नहीं, उन्होंने ऐसा नहीं कहा। जब गाइड की चर्चा हो रही थी तो वह थे चेतन आनंद और अंग्रेजी निर्देशक टाड डेनियलवस्की। दोनों मुझे फिल्म में कास्ट नहीं करना चाहते थे। उसे मेरा चेहरा पसंद नहीं आया। उन्होंने यह भी कहा कि आपकी अंग्रेजी अच्छी नहीं है। लेकिन देव साहब ने कहा, ‘मुझे परवाह नहीं है, मेरी रोजी-रोटी सिर्फ वहीदा होगी।’

गाइड 1965 में जारी किया गया था
आपको बता दें कि गाइड 1965 में जारी किया गया था और इसे अमेरिकी संस्करण में भी संपादित किया गया था। फिल्म को भारत की आधिकारिक ऑस्कर प्रविष्टि के लिए भी चुना गया था। वहीं, देव आनंद का 2011 में निधन हो गया था।

हिंदी समाचार ऑनलाइन पढ़ें और देखें लाइव टीवी न्यूज़18 हिंदी वेबसाइट पर। जानिए देश-विदेश और अपने राज्य, बॉलीवुड, खेल जगत, कारोबार से जुड़े हिन्दी में समाचार।

.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here