मुंबई: बॉलीवुड की दिग्गज जोड़ी में से एक हैं नसीरुद्दीन शाह और रत्ना पाठक। प्रतिभाशाली और अपने काम के प्रति समर्पित इस जोड़ी ने इंडस्ट्री को कई बेहतरीन फिल्में दी हैं। नसीरुद्दीन और रत्ना की लव स्टोरी में भी काफी उतार-चढ़ाव आए। 1975 में दोनों की मुलाकात एक थिएटर प्ले के दौरान हुई थी। इस नाटक का नाम ‘संभोग से संन्यास तक’ था, जिसे मुंबई थिएटर के वयोवृद्ध निदेशक सत्यदेव दुबे ने निर्देशित किया था। इस नाटक के दौरान दोनों एक-दूसरे को पसंद करने लगे, इच्छा बढ़ी और एक-दूसरे से मिलने लगे। करीब 7 साल के रिलेशनशिप के बाद दोनों ने 1982 में शादी कर ली।

जूम मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, रत्ना पाठक ने एक बार अपने रोमांस के बारे में बताया था कि ‘एक दिन ऐसा भी था जब हम दोस्त भी नहीं थे और अगले दिन हम एक साथ हैंगआउट कर रहे थे। लेकिन जैसा लगता है, नसीरुद्दीन और रत्ना के जीवन में सब कुछ इतना आसान नहीं रहा है। नसीरुद्दीन जब रत्ना से मिले तो वह शादीशुदा थे और उनकी एक बेटी भी थी और वह भी बड़े थे।

नसीरुद्दीन शाह ने एक पाकिस्तानी महिला से शादी की जब वह अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में पढ़ रहे थे। हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, नसीरुद्दीन को 19 साल की उम्र में 34 वर्षीय परवीन मुराद के प्यार में गिरफ्तार किया गया था, जो दिवंगत अभिनेत्री सुरेखा सीकरी की बहन लगती थीं। दोनों ने 1969 में शादी कर ली, हालांकि उनकी शादी नहीं चल पाई। नसीरुद्दीन ने अपनी आत्मकथा ‘एंड देन वन डे’ के बारे में जानकारी दी है।

(फोटो क्रेडिट: इंस्टाग्राम/नसीरुद्दीन49)

नसीरुद्दीन ने दिल्ली आकर राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय में प्रवेश लिया। परवीन ने बेटी हीबा को जन्म दिया, फिर भी दूरियां बढ़ती गईं और परवीन हीबा को लेकर लंदन चली गईं। नसीरुद्दीन 12 साल बाद अपनी बेटी हीबा से मिल पाए।

(फोटो क्रेडिट:रत्न_पाठक_शाह/इंस्टाग्राम)

अब आते हैं रत्ना पाठक और नसीरुद्दीन की प्रेम कहानी पर। नसीरुद्दीन और परवीन अलग हो गए थे लेकिन दोनों ने एक दूसरे से तलाक नहीं लिया। धीरे-धीरे उन्हें रत्ना की कंपनी पसंद आने लगी। एक पोडकास्ट में रत्ना ने अपने प्रेमालाप काल के बारे में एक मजेदार बात बताई। जब इन दोनों ने अपने करियर की शुरुआत की थी तो ये पैसे/खर्चों को लेकर काफी सतर्क रहते थे। उस समय के कुछ रेस्टोरेंट में दो मेन्यू कार्ड हुआ करते थे। एक पुरुषों के लिए और दूसरा महिलाओं के लिए। पैसा महिलाओं के लोगों में नहीं लिखा जाता था, यह केवल पुरुषों में लिखा जाता था। रत्ना बताती हैं कि जब हम पहली बार एक साथ डिनर पर गए थे तो हमारे पास 400 रुपये थे। गलती से नसीर के पास एक मेन्यू कार्ड था जिसमें पैसे नहीं थे और मेरे पास दूसरा था। नसीर ने बहुत ऑर्डर दिए। मैं इशारों से बिल के बारे में समझाने की कोशिश कर रहा था, लेकिन समझ नहीं पा रहा था। जब वेटर चला गया तो मैंने उसे बताया और हम अपने पैसे गिनने लगे।

(फोटो क्रेडिट:रत्न_पाठक_शाह/इंस्टाग्राम)

यह भी पढ़ें- अमिताभ बच्चन ने शेयर की अपनी थ्रोबैक तस्वीर तो फैन्स बोले- सोनू सूद लगते हैं सर

गुजारा भत्ता की वजह से नसीरुद्दीन का तलाक घसीटा जा रहा था इसलिए दोनों ने लिव-इन रिलेशनशिप में रहने का फैसला किया और आखिरकार 1982 में बड़ी ही सादगी से उनकी शादी हो गई। इन दोनों के दो बेटे विवान शाह और इमाद शाह हैं।

हिंदी समाचार ऑनलाइन पढ़ें और लाइव टीवी न्यूज़18 को हिंदी वेबसाइट पर देखें। जानिए देश-विदेश और अपने राज्य, बॉलीवुड, खेल जगत, कारोबार से जुड़ी खबरें।

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here