मुंबई: बॉलीवुड अभिनेता रणबीर कपूर और कोंकणा सेन शर्मा स्टारर फिल्म ‘वेक अप सिड’ को 12 साल पूरे हो गए हैं। शानदार पटकथा और निर्देशन के साथ, यह एक ऐसी फिल्म है जिससे हर युवा खुद को जोड़ सकता है। 2 अक्टूबर 2009 को रिलीज हुई यह फिल्म जीवन के उस हिस्से को दर्शाती है जिससे ज्यादातर लोग गुजरते हैं। फिल्म की रिलीज के 12 साल बाद वह फिल्म से मिले जीवन मंत्र के बारे में बताते हैं।

‘वेक अप सिड’ की कहानी

सबसे पहले फिल्म की कहानी के बारे में जान लेते हैं। ‘वेक अप सिड’ में सिड नाम के लड़के की भूमिका निभा रहे रणबीर कपूर के जीवन में कोई लक्ष्य नहीं है। लॉन्ग ड्राइव, पार्टीज, वीडियो गेम खेलना, मस्ती करना, सिड की जिंदगी गुजर रही है। उसे कभी पैसों की कमी महसूस नहीं हुई, वह क्रेडिट कार्ड से खर्च करता है, जिसका भुगतान उसके पिता करते हैं। जब पिताजी उसे व्यवसाय में हाथ मिलाने के लिए कहते हैं, तो दोनों में लड़ाई हो जाती है और घर छोड़ देते हैं। ऐसे में उनकी दोस्त कोंकणा सेन यानी आयशा बनर्जी उन्हें जीवन मंत्र सिखाती हैं।

आत्मनिर्भर बनने की शिक्षा दे रही फिल्म

‘वेक अप सिड’ में दिखाया गया है कि कई युवाओं का पढ़ाई खत्म होने के बाद कई के सामने कोई लक्ष्य नहीं होता। जीवन में क्या करना है इसकी कोई योजना नहीं है। इसलिए फिल्म सिखाती है कि जीवन में आत्मनिर्भर होना, खुद को रोजी-रोटी कमाने के काबिल बनाना बहुत जरूरी है। फिल्म में एक जगह कोंकणा कहती हैं कि ‘आपको नहीं पता कि आप कितने डरे हुए होंगे लेकिन सब ठीक हो जाएगा। बंबई आना मेरा सपना था। और अब जबकि मैं यहाँ हूँ, मैं डर नहीं सकता। यहां करने के लिए इतना कुछ है कि डर की कोई जगह नहीं होगी।

जागो सिड युवाओं को राह दिखाता है। (फोटो क्रेडिट: मूवीज एन मेमोरीज/ट्विटर)

उत्थान संवाद

इस फिल्म के डायलॉग से कई युवाओं को रास्ता भी मिल जाता है. आयशा सिड को समझाती हैं, ‘तुमने कभी नहीं सोचा था कि तुम्हारा अपना घर है, अपना खाना खुद बनाओ, कमाओ और अपने पैसे उड़ाओ, सब कुछ तुम्हारा अपना बना रहा है.. निर्दलीय.. समझो मैं क्या कह रहा हूं’।

रणबीर कपूर ने बहुत अच्छा काम किया। (फोटो क्रेडिट: मूवीज एन मेमोरीज/ट्विटर)

रणबीर कपूर ने दिखाया अपना दमखम

अयान मुखर्जी के निर्देशन में रणबीर कपूर ने सिड की भूमिका में अपनी जान लगा दी। इस फिल्म में अभिनेता के अभिनय को देखकर फिल्म समीक्षकों को समझ में आ गया था कि कपूर परिवार के इस तमाशा दीपक के खून में अभिनय है और यह एक लंबी दौड़ का घोड़ा होगा। रणबीर के पिछले 12 साल के फिल्मी सफर पर नजर डालें तो वह इस बात को सही साबित कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें-आशा पारेख B’day Spl: आमिर खान के चाचा की वजह से आजीवन अविवाहित रहीं आशा पारेख

इस फिल्म में रणबीर कपूर और कोंकणा सेन के अलावा अनुपम खेर, राहुल खन्ना, कश्मीरा शाह ने भी शानदार काम किया था।

हिंदी समाचार ऑनलाइन पढ़ें और देखें लाइव टीवी न्यूज़18 हिंदी वेबसाइट पर। जानिए देश-विदेश और अपने राज्य, बॉलीवुड, खेल जगत, कारोबार से जुड़े हिन्दी में समाचार।

.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here