मुंबई: फिल्म इंडस्ट्री की धक-धक गर्ल माधुरी दीक्षित की पहली फिल्म ‘अबोध’ थी। इस फिल्म में माधुरी को देखकर किसी को अंदाजा नहीं होगा कि एक मासूम सी दिखने वाली लड़की एक दिन अपने ग्लैमरस अंदाज से फिल्म इंडस्ट्री पर राज करेगी। 10 अगस्त 1984 को रिलीज हुई फिल्म ‘अबोध’ को 37 साल हो चुके हैं. इन 37 सालों में माधुरी के करियर का ग्राफ बुलंदियों पर पहुंचा. हर नई अभिनेत्री का सपना माधुरी की तरह प्रसिद्ध होने का होता है, जिसका एक सफल फिल्मी करियर और एक सफल निजी जीवन है। बताया जाता है कि गर्मी की छुट्टियों में 17 साल की किशोरी माधुरी ने समय बिताने के लिए फिल्म ‘अबोध’ में काम करने का मन बना लिया था।

फैमिली फिल्म बनाने के लिए फेमस राजश्री प्रोडक्शंस को अपनी फिल्म की कहानी के मुताबिक ऐसी हीरोइन की तलाश थी, जो इस किरदार की मासूमियत के साथ सच में न्याय कर सके। मेकर्स ने माधुरी को देखा और फिल्म में ब्रेक दिया। जब माधुरी ने भी यह फिल्म साइन की थी तो वह अपने फिल्मी करियर को लेकर ज्यादा सीरियस नहीं थीं। एक टीवी शो में शिरकत करने पहुंची माधुरी दीक्षित ने बताया था कि ‘उस वक्त पढ़ाई कर रही थी, गर्मी की छुट्टियों में खाली वक्त था, सोचा फिल्म कर लूं’.

(फोटो क्रेडिट: मूवीज एन मेमोरीज/ट्विटर)

हालांकि तब माधुरी को इस बात का अहसास नहीं होता था कि इस फिल्म के बाद उनके पास वक्त बिताने का वक्त ही नहीं होगा। ‘अबोध’ के बाद एक के बाद एक फिल्मों के ऑफर आने लगे। माधुरी पढ़ाई के साथ-साथ फिल्में करती रहीं। अबोध फिल्म में कई अलग-अलग शेड्स थे। शरारती शरारती से लेकर उदास हीरोइन तक यानी बाली उमर में की गई पहली ही फिल्म में माधुरी ने हर रंग दिखाया. इस फिल्म के हीरो थे बंगाली फिल्म अभिनेता तापस पॉल। माधुरी के अभिनय पर तापस का साया पड़ा और इसके बाद हिंदी फिल्मों में शायद ही कोई काम हुआ हो, लेकिन माधुरी के अभिनय पर सुभाष घई समेत कई फिल्म निर्माताओं ने ध्यान दिया.

(फोटो क्रेडिट: मूवीज एन मेमोरीज/ट्विटर)

किसी को अंदाजा नहीं था कि सूती साड़ी में माधुरी दीक्षित का मासूम सफर अगले दिन तक कयामत लेकर आएगा। घूंघट में लिपटी एक आलसी लड़की की भूमिका निभाकर माधुरी ने चेतावनी दी थी कि आने वाला समय उसका है।

यह भी पढ़ें- श्रीदेवी से पहले जयाप्रदा को मिला ‘नगीना’ का ऑफर, फिल्म बनी दुश्मनी की वजह!

राजश्री प्रोडक्शन के बैनर तले बनी फिल्म ‘अबोध’ में डायरेक्टर हिरेन नाग ने माधुरी के मासूम रूप को बखूबी दिखाया. यह फिल्म एक ऐसी लड़की की कहानी है जो शादी तो कर लेती है लेकिन रिश्ते और शादीशुदा जिंदगी के बारे में किसी भी तरह की जानकारी नहीं रखती है। उम्र और बेबसी से भरपूर माधुरी इस फिल्म के लिए परफेक्ट थीं। रवींद्र जैन के संगीत से सजी यह फिल्म हिट तो नहीं रही लेकिन इस फिल्म ने माधुरी को सुपरस्टार माधुरी दीक्षित बना दिया।

हिंदी समाचार ऑनलाइन पढ़ें और लाइव टीवी न्यूज़18 को हिंदी वेबसाइट पर देखें। जानिए देश-विदेश और अपने राज्य, बॉलीवुड, खेल जगत, कारोबार से जुड़ी खबरें।

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here