आ गले लग जा के 48 साल: शशि कपूर, शर्मिला टैगोर और शत्रुघ्न सिन्हा स्टारर फिल्म ‘आ गले लग जा’ को 48 साल पहले जबरदस्त सफलता मिली थी। 16 नवंबर 1973 को रिलीज हुई मनमोहन देसाई की इस फिल्म के मशहूर गाने आज भी सिने प्रेमियों की जुबान पर रहते हैं. ‘वादा करो नहीं छोरोगे तुम मेरा साथ’ और ‘तेरा मुझसे है पहले का नाता कोई’ जैसे गाने आज भी पूरे जोश के साथ सुने और गाए जाते हैं। शशि भले ही आज दुनिया में न हों, लेकिन उनके अभिनय, फिल्मों में निभाए गए किरदारों को दर्शक याद करते हैं, वहीं उनके साथ काम कर चुके सह-अभिनेताओं, सह-अभिनेताओं के साथ-साथ पूरी फिल्म क्रू भी याद करती है। इस फिल्म की शूटिंग के दौरान हुआ एक दिलचस्प किस्सा बताता है।

फिल्म इंडस्ट्री में प्रिंस चार्मिंग के नाम से मशहूर शशि कपूर अपने शोमैनशिप की वजह से को-एक्ट्रेस के बीच काफी मशहूर थे। साथ ही उनकी बच्चों से भी गजब की दोस्ती थी। अगर कोई चाइल्ड आर्टिस्ट सेट पर मिल जाता है तो उसे इतना मजा आता है कि पूछो मत। ऐसा ही मौका उन्हें फिल्म ‘आ गले लग जा’ की शूटिंग के दौरान मिला। फिल्म में उनके साथ बाल कलाकार के रूप में काम करने वाले टीटो खत्री ने शशि को याद किया और उनके साथ सालों पहले बिताए खूबसूरत पलों को साझा किया। वैसे तो उस समय टीटो की उम्र करीब 7-8 साल रही होगी, लेकिन कहा जाता है कि अच्छी यादें आपके दिमाग से कभी नहीं जातीं, कुछ ऐसा ही टीटो के साथ भी है।

फिल्म ‘आ गले लग जा’ में शर्मिला टैगोर, शशि कपूर। (फोटो क्रेडिट: मूवीज एन मेमोरीज/इंस्टाग्राम)

टीटो खत्री ने मीडिया को दिए एक इंटरव्यू में बताया था कि ‘शूटिंग के दौरान बहुत सी बातें याद नहीं रहती, लेकिन इतना जरूर याद है कि शशि कपूर हमारे साथ खूब मस्ती करते थे और उनसे बहुत प्यार करते थे. इतने शानदार परिवार से ताल्लुक रखने वाले बड़े कलाकार शशि इतने सहज थे कि फिल्म ‘आ गले लग जा’ के शूटिंग सेट पर लाइट मैन स्पॉट बॉय का खाना खाते थे। बदले में वह उसे इतने पैसे देता था कि वह अपने लिए एक बड़े होटल से खाना मांग सकता था।

टीटो खत्री, ओम प्रकाशी

‘आ गले लग जा’ में टीटो खत्री और ओम प्रकाश। (फोटो क्रेडिट: मूवीज एन मेमोरीज/ट्विटर)

टीटो खत्री ने बताया था कि ‘शशि कपूर ऐसा इसलिए करते थे क्योंकि उन्हें घर का बना खाना बहुत पसंद था। इतनी सहजता थी उसमें, मैंने किसी के अंदर इतना नहीं देखा। मनमोहन देसाई द्वारा निर्देशित यह हिंदी रोमांटिक फिल्म अपनी कहानी, शानदार अभिनय के साथ-साथ गानों के कारण सुपरहिट रही। गीत साहिर लुधियानवी द्वारा लिखे गए थे और संगीत आरडी बर्मन ने दिया था।

यह भी पढ़ें- ‘राजू बन गया जेंटलमैन’: शाहरुख खान के साथ काम करने के लिए अनिच्छा से तैयार थीं जूही चावला

फिल्म ‘आ गले लग जा’ को हिंदी में इतना पसंद किया गया था कि इसे तेलुगु और तमिल भाषाओं में भी बनाया गया था। इतना ही नहीं फिल्म पंडितों की माने तो पाकिस्तानी फिल्म ‘आइना’ 1977 में बनी थी और 1985 में मिथुन चक्रवर्ती, पद्मिनी कोल्हापुरे स्टारर फिल्म ‘प्यार झुकता नहीं’ बॉलीवुड में बनी थी। विजय सदाना के निर्देशन में बनी यह फिल्म भी जबरदस्त हिट रही थी।

टैग: शर्मिला टैगोर, शशि कपूर, शत्रुघ्न सिन्हा

,

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here