यादों की बारात के 48 साल: 48 साल पहले फिल्म ‘यादों की बारात’ में जीनत अमान, धर्मेंद्र, नीतू सिंह के साथ विजय अरोड़ा एक और हीरो थे। विजय जब फिल्मी पर्दे पर आए तो उन्हें देखकर सुपरस्टार राजेश खन्ना भी डर गए। 2 नवंबर 1973 को रिलीज हुई इस फिल्म में काम कर विजय अरोड़ा ने फिल्म इंडस्ट्री में अपना दबदबा बनाया था। यादों की बारात काफी हिट रही थी। फिल्मी पर्दे पर बवाल करने वाले विजय समय के साथ तालमेल नहीं बिठा पाए और बड़े स्टार बन गए। गुमनामी के अंधेरे में खोए इस अभिनेता को फिर से एक टीवी सीरियल से पहचान मिली, लेकिन 48 साल पहले जैसी नहीं मिली।

1973 की फिल्म यादों की बारात में धर्मेंद्र मुख्य अभिनेता थे। कहा जाता है कि इस फिल्म से नीतू सिंह और जीनत अमान को जबरदस्त सफलता मिली थी। इन हीरोइनों के अलावा अभिनेता विजय अरोड़ा को भी पहचान मिली। विजय बाला की खूबसूरत एक्ट्रेस जीनत अमान के साथ नजर आए, लेकिन विजय को जीनत से ज्यादा पसंद किया गया। हैंडसम अभिनेता को देखकर उस दौर की लड़कियां दीवानी हो गईं। ये वही दौर था, जब राजेश खन्ना हर जगह थे। राजेश को टक्कर देने वाला कोई अभिनेता नहीं था। जैसे ही उन्होंने ‘यादों की बारात’ में काम किया, विजय को लेकर चारों तरफ चर्चा होने लगी। कहा जाता है कि ऐसे में राजेश को अपना सिंहासन झूलता हुआ देखने लगा।

फिल्म यादों की बारात में धर्मेंद्र मुख्य अभिनेता थे। (फोटो क्रेडिट: मूवीज एन मेमोरीज/ट्विटर)

विजय अरोड़ा न सिर्फ हैंडसम थे, बल्कि डायलॉग डिलीवरी भी कमाल की थी। विजय जब फिल्मी पर्दे पर डायलॉग बोलते थे तो दर्शक उन्हें बिना पलक झपकाये देख लेते थे. विजय ने राजेश खन्ना के साथ ‘रोटी’, ‘सौतन’, ‘निशान’ जैसी फिल्मों में काम किया। काका भी इस अभिनेता से इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने मीडिया को दिए एक इंटरव्यू में कहा था कि ‘अगर कोई उनकी जगह ले सकता है, तो केवल विजय’। ऐसे शानदार अभिनेता का गुमनाम होना दुखद है। लेकिन इस अभिनेता ने भी ऐसा किरदार निभाया कि दर्शकों को याद रहेगा कि विजय कौन है?

आइए अब आपको रामानंद सागर के मशहूर टीवी सीरियल ‘रामायण’ में रावण के बेटे मेघनाद की याद दिलाते हैं। इस किरदार को विजय अरोड़ा ने निभाया था। अब तो आप इस दिग्गज अभिनेता को याद ही कर चुके होंगे। 70-80 के दौर में विजय ने कई फिल्मों में बतौर लीड एक्टर और को-एक्टर के तौर पर काम किया। फिल्मी दुनिया में कदम रखने से पहले उन्होंने पुणे फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया से ग्रेजुएशन किया। विजय उस मायने में उतनी सफलता हासिल नहीं कर सके, जितनी उन्हें मिली थी। हालांकि विजय का निधन 2007 में कैंसर की वजह से हो गया था, लेकिन 70 के दशक के दर्शकों ने इस हैंडसम हीरो को जरूर याद किया होगा।

यह भी पढ़ें- मुमताज ने कभी नहीं किए फिल्मों में बोल्ड सीन, कहा- ‘मैंने पर्दे पर हीरो को किस भी नहीं किया’

फिल्म ‘यादों की बारात’ के डायरेक्टर नासिर हुसैन ने प्रोड्यूस किया था। फिल्म को सलीम-जावेद की जोड़ी ने लिखा था। इस फिल्म को बॉलीवुड की पहली मसाला फिल्म भी कहा जाता है। इस फिल्म के ‘यादों की बारात’, ‘चुरा लिया है तुमने’, ‘लेकर हम दीवाना दिल’, ‘मेरी तमन्ना’ जैसे सुपरहिट गाने आज भी सुने और सुनाए जाते हैं. संगीत आरडी बर्मन ने दिया था और गाने मजरूह सुल्तानपुरी ने लिखे थे। आशा भोंसले और मोहम्मद रफ़ी की आवाज़ में गाया गया ‘चुरा लिया है तुमने जो दिल को’ आज भी जबरदस्त हिट है. इस फिल्म की अपार सफलता के कारण इसे तमिल, तेलुगु और मलयालम में भी बनाया गया था।

हिंदी समाचार ऑनलाइन पढ़ें और देखें लाइव टीवी न्यूज़18 हिंदी वेबसाइट पर। जानिए देश-विदेश और अपने राज्य, बॉलीवुड, खेल जगत, कारोबार से जुड़े हिन्दी में समाचार।

.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here