मुंबई: ग्रीक एक्टर के तौर पर मशहूर हुए ऋतिक रोशन ने फिल्म ‘मोहनजोदड़ो’ में शानदार परफॉर्मेंस दी थी. 12 अगस्त 2016 को रिलीज हुई यह फिल्म ऋतिक की यादगार फिल्मों में से एक है। इस फिल्म को रिलीज हुए 5 साल हो चुके हैं, लेकिन कई सीन दर्शकों के दिलो-दिमाग में आज भी ताजा हैं. आशुतोष गोवारिकर के निर्देशन में बनी इस फिल्म में कई प्रयोग किए गए। सिंधु घाटी सभ्यता को दिखाने के लिए पुरातत्वविदों के साथ कई दौर की बैठकें कीं। इसके अलावा आशुतोष को कई बार विवादों का भी सामना करना पड़ा था।

आशुतोष गोवारिकर ने किया 3 साल का शोध

फिल्म ‘मोहनजोदड़ो’ की कहानी के साथ न्याय करने के लिए आशुतोष गोवारिकर ने काफी रिसर्च की थी। करीब 3 साल तक शोध करते रहें ताकि दर्शक फिल्म के सभी किरदारों और दृश्यों को प्राचीन सिंधु सभ्यता से जोड़ सकें। आशुतोष ने सोशल मीडिया पर पोस्ट करते हुए कहा था कि ‘फिल्म के लिए 3 साल के लंबे शोध के दौरान, वह 7 पुरातत्वविदों से मिले थे जो सिंधु घाटी सभ्यता की खुदाई और अध्ययन में शामिल थे। फिल्म के सेट और जीवन शैली को ठीक से फिल्माने के लिए प्रोफेसर जोनाथन मार्क केनोयर को बुलाया गया, जो हड़प्पा सभ्यता के विशेषज्ञ थे।

(फोटो क्रेडिट: एजीपीएल/इंस्टाग्राम)

भेड़ाघाटी को देखकर खुश हुए आशुतोष

आशुतोष ने फिल्म की लोकेशन को लेकर भी कई जगहों का दौरा किया, फिर वह प्राचीन काल को पर्दे पर दिखाने में कामयाब रहे। आशुतोष अपनी फिल्म को भव्य के साथ-साथ नेचुरल भी बनाना चाहते थे। इसलिए उन्होंने लोकेशन खोजने में काफी मेहनत की। आशुतोष ने भेड़ाघाट की घाटियों को अपनी फिल्म के लिए एकदम सही पाया और जब उन्होंने इस जगह को देखा तो उनके मुंह से गैरजिम्मेदाराना तरीके से निकला – अद्भुत। आशुतोष ने अपने एक इंटरव्यू में बताया था कि वह कई जगहों पर गए लेकिन सिंधु घाटी की सभ्यता को दिखाने के लिए कोई जगह सही नहीं लगी। मध्य प्रदेश के जबलपुर के भेड़ाघाट में हमारी तलाश खत्म हुई। करीब 4000 साल पुरानी सभ्यता को फिल्मी पर्दे पर दिखाने की हमारी तलाश यहीं खत्म हुई।

(फोटो क्रेडिट: एजीपीएल/इंस्टाग्राम)

नकली मगरमच्छों से लड़े ऋतिक रोशन

2015 में जब फिल्म की शूटिंग चल रही थी उस वक्त काफी विवाद हुआ था। जबलपुर के भेड़ाघाट में नर्मदा नदी के किनारे बिल्कुल सिंधु नदी की तरह बने थे। आशुतोष पर ऋतिक रोशन और मगरमच्छों के साथ एक लड़ाई के दृश्य को फिल्माते समय नर्मदा नदी को प्रदूषित करने का आरोप लगाया गया था। दरअसल, फिल्म के पर्दे पर ऋतिक को मगरमच्छों से भिड़ता देख दर्शक दंग रह गए, वे असली नहीं बल्कि कृत्रिम मगरमच्छ थे। पर्यावरण प्रेमियों ने नदी के रसायनों के कारण प्रदूषित होने का आरोप लगाया था।

यह भी पढ़ें- धर्मेंद्र और विनोद खन्ना की ‘रखवाला’ ने पूरे किए 50 साल, फिल्म में ही किया फाइटिंग सीन

‘मोहनजोदड़ो’ का मंत्रमुग्ध कर देने वाला संगीत

इस फिल्म में ऋतिक रोशन के अलावा कबीर बेदी, पूजा हेगड़े, अरुणोदय सिंह ने भी बेहतरीन काम किया था। इस फिल्म का संगीत सिनेमाघरों में सम्मोहन पैदा करने में सफल रहा। फिल्म के गाने जावेद अख्तर ने लिखे थे और संगीत एआर रहमान ने दिया था।

हिंदी समाचार ऑनलाइन पढ़ें और लाइव टीवी न्यूज़18 को हिंदी वेबसाइट पर देखें। जानिए देश-विदेश और अपने राज्य, बॉलीवुड, खेल जगत, कारोबार से जुड़ी खबरें।

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here